सिर्फ 1.5 रुपए की दवा से ठीक हो रहे कोरोना मरीज, डॉक्टर्स की बढ़ीं उम्मीदें

0
134
Corona Medicine
Corona Medicine

Corona Medicine: इस समय पूरी दुनिया कोरोना संकट से जूझ रही है। कोरोना संकटकाल में लोग इस महामारी के लिए वैक्सीन की तलाश कर रहे हैं। इस बीच चीन के वुहान शहर से एक खुशखबरी सामने आई है।जी, हां इस समय कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए मेटफॉर्मिन नाम की दवा का इस्तेमाल किया जा रहा है। (Corona Medicine) इस दवा से रिजल्ट काफी अच्छे नजर आ रहे हैं। बता दें कि इस दवा का उपयोग साधारण तौर पर डायबिटीज के मरीजों के लिए किया जाता है। सबसे आश्चर्य की बात ये है भारत में इस दवा की कीमत सिर्फ 1.5 रुपये है। यह दवा दुनिया भर के डॉक्टर्स के लिए उम्मीद बनकर सामने आई है।

ये भी पढ़ें – सैनिटाइजर का अधिक इस्तेमाल पड़ सकता है भारी, जानें इससे होने वाले नुकसान

चीन के वुहान शहर के डॉक्टर्स ने मेटफॉर्मिन को लेकर रिसर्च की है। कुछ केस स्टडीज के आधार पर चिकित्सकों का कहना है (Corona Medicine) कि यह दवा कोरोना के इलाज में कारगर पाई गई है। वहीं, अमेरिका के मिन्नेसोटा यूनिवर्सिटी ने करीब 6 हजार मरीजों पर इस दवा को आजमाया। मिन्नेसोटा यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स का कहना है कि मेटफॉर्मिन दवा से कोरोना मरीजों के मौत का खतरा कम किया जा सकता है।

डायबीटिज, ब्रेस्ट कैंसर और हार्ट की बीमारियों में कारगर

अंग्रेजी अखबार द सन की रिपोर्ट के अनुसार, ब्रिटेन की प्रमुख स्वास्थ्य संस्था नेशनल हेल्थ सर्विस इस दवा का इस्तेमाल काफी समय से पहले से कर रही है। इस दवा का इस्तेमाल डायबीटिज के अलावा ब्रेस्ट कैंसर और दिल से संबंधित बीमारी के लिए किया जाता हा। 1950 के दशक से टाइप 2 डायबिटीज के इलाज में इस दवा का उपयोग किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें – चीन के इस वायरस से फिर से फैल सकती है महामारी, कोरोनावायरस से भी हो सकता है खतरनाक

वुहान में कारगर मेटफॉर्मिन

वुहान शहर को कोरोनावायरस की जन्मभूमि कहा जाए, जिसमें कोई हैरानी की बात नहीं है। इसी शहर में में मेटफॉर्मिन दवा काफी कारगर साबित हो रही है अध्ययन में पाया गया कि डायबिटीज से पीड़ित लोग जो कोरोना से संक्रमित हुए हैं, जो इस दवा का सेवन कर रहे हैं, उसकी तुलना में दवा का सेवन ना करने वालों की मौत अधिक हो रही है।

अध्ययन के दौरान वुहान के डॉक्टर्स को पता चला कि मेटफॉर्मिन लेने वाले सिर्फ 3 मरीजों की मौत हुई है। वहीं, दवाई ना लेने वाले करीब 22 कोरोना मरीजों की मौत हो गई, जिन्होंने ये साबित होता है कि कोरोना के इलाज में यह दवा कारगर साबित हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here