Lancet Report का चौंकाने वाला दावा, हवा से फैल रहा है Coronavirus

0
843
Lancet Report on Coronavirus
Can Coronavirus spread though air as per Lancet Report

Lancet Report on Covid19: कोरोना महामारी को लेकर दुनिया के सबसे सम्मानित मेडिकल जनरल में शामिल लैंसेट ने कोरोना वायरस को लेकर एक चौंकाने वाली रिपोर्ट पेश की है। लैंसेट की रिपोर्ट के मुताबिक, कोविड-19 मुख्य रूप से हवा के जरिए फैल रहा है। इस रिपोर्ट को अमेरिका, इंग्लैंड और कनाडा के वैज्ञानिकों द्वारा तैयार किय गया है। (Lancet Report) रिपोर्ट पेश करने वाले एक्सपर्ट के मुताबिक, कोरोना हवा के जरिए फैलने का यह अर्थ है कि कोविड-19 संक्रमण सिर्फ मरीज के खांसने या फिर छींकने से नहीं फैलता, बल्कि उसके बोलने, चिल्लाने, गाने, सांस छोड़ने से भी फैल सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यही वजह है कि कोरोना इतनी तेजी से अपना पैर पसार रहा है।

हवा के जरिए मुख्य रूप से फैल रहा है कोविड-19

अबतक के हेल्थ एक्सपर्ट द्वारा यही कहा जा रहा था कि कोरोना वायरस फैलने की मुख्य वजह संक्रमित व्यक्ति का खांसना और छींकना है। यानी खांसते और छींकते वक्त निकले ड्रॉपलेट्स के कारण या फिर संक्रमित सतह को छूने की वजह से कोरोना वायरस फैलता है। लेकिन लैंसेट की रिपोर्ट के अनुसार, यह मान्यता तथ्यों पर आधारित नहीं है कि कोरोना सिर्फ ड्रॉपलेट्स की वजह से फैलता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना फैलने की मुख्या वजह हवा है, न कि किसी व्यक्ति का खांसने या छींकने वाले ड्रॉपलेट्स

कोरोना को फैलने से रोकने के लिए बनानी होगी नई रणनीति

लैंसेट की रिपोर्ट के मुताबिक, महामारी रोकने के लिए अपनाए जा रहे उपाय बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि सिर्फ पुराने उपायों से कुछ नहीं होगा। बल्कि अब पुराने उपायों के साथ-साथ कोरोना महामारी को रोकने के लिए नई रणनीति बनाने की आवश्यकता है। नई रणनीति को तैयार करने के लिए अब ज्यादा देर नहीं लगनी चाहिए। विशेषज्ञों का कहना है कि बार-बार हाथ धोना, सतहों को न छूना और खांसते वक्त कपड़ा मुंह पर रखना जैसी बातों का ध्यान हमें आज भी रखने की आवश्यकता है। लेकिन इसके साथ-साथ ऐसे उपायों को ढूंढने की आवश्यकता है, जिससे हवा में फैल रहे इंफेक्शन को रोका जा सके।

लैंसेट की रिपोर्ट (Lancet Report) में शामिल हुए वैज्ञानिक जोसे लुई जिमेनेज़ का कहना है कि कोरोना हवा के जरिए फैलता है, इस बात के कई सबूत मिले हैं। लेकिन कोरोना का संक्रमण ड्रॉपलेट्स के जरिए फैलता है, इसके सबूत न के बराबर मिले हैं। जिमेनेज़ का कहना है कि वर्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन एवं अन्य हेल्थ एजेंसियों को अब जल्द से जल्द अपनी रणनीति में सुधार करने की आवश्यकता है। कोरोना हवा से फैलता है, इस बात को स्वीकार करने में ज्यादा वक्त न गवाएं और इसे रोकने के उपाय खोजना बेहद जरूरी हो चुका है।

ये भी पढ़ें – कोविड-19 वैक्सीनेशन से पहले क्या खाएं और क्या नहीं?

बता दें कि लैंसेट की रिपोर्ट में कई ऐसे कारण बताए गए हैं, जिससे यह साबित होता है कि कोरोना हवा के जरिए फैलता है। जैसे-

कोविड से संक्रमित व्यक्ति जब अस्पताल में होता है, तो उसके बगल के कमरों या फिर बिल्डिंग के डॉक्टर्स और अन्य कर्मचारी भी कोरोना से संक्रमित हुए हैं। इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं।हवा और एयरफिल्टर में कोरोना वायरस का संक्रमण मिला है। इसके अलावा रिपोर्ट में कई कारण बताए गए हैं।

कोरोना से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें Corona News in Hindi

देश और दुनिया से जुड़ी Health News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. YouTube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter और Instagram पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here