चिकनगुनिया का बढ़ सकता है प्रकोप, समय से पहले पहचानें इसके लक्षण

Chikungunya Virus Symptoms

Chikungunya Virus Symptoms: एशिया, यूरोप, अफ्रीका, यूरोप और अमेरिका के 60 से अधिक देशों में चिकनगुनिया की पहचान की गई है। चिकनगुनिया किसी भी उम्र और वर्ग के लोगों को प्रभावित कर सकता है। (Chikungunya Virus Symptoms) चिकनगुनिया एक वायरस है, जो मच्छरों के काटने से फैलता है। चिकनगुनिय के कारण मरीजों को अचानक बुखा और जोड़ों में दर्द की शिकायत शुरू हो जाती है।

ये भी पढ़ें – अस्थमा और स्किन एलर्जी को दावत दे सकता है कॉकरोच, इन तरीकों से 1 दिन में पाएं छुटकारा

चिकनगुनिया के बारे में सबसे पहले 1952 में पता चला था। यह सबसे पहले तंजानिया में फैला था। (Chikungunya Virus Symptoms) चिकनगुनिया एक रिबोन्यूक्लिक एसिड (आरएनए) वायरस है, जो टोगवारिडाय (Togaviridae) अल्फावायरस वर्ग से संबंधित है। मच्छरों के काटने से यह वायरस सीधा खून में प्रवेश करता है।

चिकनगुनिया के लक्षण (Chikungunya Virus Symptoms)

तेज बुखार (High Fever)

चिकनगुनिया से पीड़ित मरीजों को सबसे पहले तेज बुखार आता है। इसमें मरीजों को 102 से 104 डिग्री सेल्सियस तक बुखार हो सकता है। यह बुखार एक सप्ताह से 10 दिनों तक रहता है।

ये भी पढ़ें – डेंगू का मच्छर होता है औरों से अलग, काटने के कई दिनों तक नहीं दिखते इसके लक्षण

जोड़ों में तेज दर्द (Joint Pain)

चिकनगुनिया से पीड़ित मरीजों के जोड़ों में तेज दर्द होता है। जोड़ों में दर्द के साथ-साथ हाथ पैर भी काफी हिलने-डुलने लगते हैं। जोड़ों में दर्द काफी दिनों तक बना रहता है। जोड़ों में दर्द कभी-कभी इतना अधिक हो जाता है कि इसमें सूजन की भी शि‍कायत हो जाती है।

रैशेज या चकत्ते पड़ जाना (Rashes)

चिकनगुनिया से संक्रमित लोगों के शरीर में चकत्ते और रैशेज की समस्या हो जाती है। शरीर में ये चकत्ते हथेली और जांघो पर नजर आते हैं।

अन्य लक्षण (Other Symptoms)

इन लक्षणों के साथ-साथ सिर में दर्द, मांसपेशियों में खिंचाव, चक्कर आना और उल्टी जैसा महसूस होत है।

ये भी पढ़ें – कैंसर और डिप्रेशन के खतरे को कम करे ब्रोकली, इसके सेवन से होते हैं कई और लाजवाब फायदे

चिकनगुनिया से बचाव के उपाय (Chikungunya Preventive measures)

मच्छरों के काटने से चिकनगुनिया फैलता है। इससे बचने के लिए हमें प्रारम्भिक सुरक्षा और बचाव अपनाना चाहिए।

  • मच्छरों से बचने के लिए हमेशा अपने खिड़की और दरवाजों को बंद रखना चाहिए।
  • हमेशा रात को सोते समय मच्छरदानी को लगाकर सोएं।
  • हमेशा फुल आस्तीन वाले कपड़े पहनें। ताकि मच्छर के काटने से बचा जा सके।
  • घर के आस-पास पानी को इकट्ठा ना होने दें।
  • अपने डॉक्टर्स के दिशानिर्देश के अनुसार, कीट रेपेलेंट का उपयोग करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
YouTube
Pinterest
Instagram