कोरोनावायरस से लड़ने में भारतीयों का ये नुस्खा है कारगर, ब्रिटेन के शोकर्ताओं ने लगाई मुहर

Coronavirus and Gargle

Coronavirus and Gargle : कोरोनावायरस का कहर लगातार कई महीनों से बढ़ता ही जा रहा है। आज के दौर में इसका इलाज ढूंढ निकलाना वैज्ञानिकों के सामने सबसे बड़ी चुनौती बन चुकी है। कई वैज्ञानिक कोराना वायरस को लेकर रिसर्च कर रहे हैं। अबतक कई वैज्ञानिकों और दवाई कंपनियों द्वारा दावा किया जा चुका है कि उन्होंने इस बीमारी का इलाज ढूंढ निकाला है। (Coronavirus and Gargle) इनके दावे कितने सच और कितने गलते हैं, ये तो आने वाल वक्त बताएगा। आयुर्वेद में भी इस बीमारी से बचने के लिए कई उपाय किए जा रहे हैं, जो कारगर भी साबित हो रहे हैं। वहीं, भारतीयों द्वारा इस बीमारी से बचे रहने के लिए कई घरेलू नुस्खे आजमाए जा रहे हैं, इन्ही नुस्खों में से एक है नमक के पानी से गरारे करना। नमक से गरारे करने से कोरोना वायरस के खतरे को कम किया जा सकता है, इस बात पर ब्रिटेन के शोधकर्ताओं ने अपनी मुहर लगा दी है।

ये भी पढ़ें – कोरोनावायरस से ठीक हुए मरीजों को 30 दिनों तक नहीं करना चाहिए सेक्स

संक्रमण के लक्षण हो सकते हैं कम

यह रिसर्च ब्रिटेन की एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी में किया गया है। इस रिसर्च के अनुसार, नमक के पानी से गरारे करने से कोरोना वायरस के संक्रमण के (Coronavirus and Gargle) लक्षणों को कम किया जा सकता है। इतना ही नहीं इससे वायरस के फैलने की अवधि को भीघटाया जा सकता है। ब्रिटेन के रिसर्चर्स ने 66 कोरोना से संक्रमित मरीजों पर अध्ययन किया, इस अध्ययन में करीब 12 दिन का समय लगा। इन मरीजों को इलाज के साथ-साथ नमक के पानी से गरारे भी कराए गए। 12 दिन बाद जब इन मरीजों के नाक से सैंपल लिए गए, तो रिजल्ट में वायरस के लक्षण बहुत ही कम दिखे, जो काफी चौंक देने वाले हैं।

ये भी पढ़ें – क्या 11वें दिन कोरोना से संक्रमित व्यक्ति नहीं है दूसरों के लिए खतरा? जानें क्या है वैज्ञानिकों का दावा

ब्रिटेन के इस रिसर्च को जर्नल ऑफ ग्लोबल हेल्थ में प्रकाशित किया गया है। रिसर्च के मुताबिक, महज 2.5 दिनों के अंदर ही मरीजों में संक्रमण के लक्षण कम होने लगे थे। शोधकर्ताओं का दावा है कि अगर नमक के पानी से मरीजों को गरारे कराए गए, तो इससे संक्रमण के प्रभाव का काफी तेजी से कम किया जा सकता है। इसके साथ ही इस बीमारी के खतरे को समय पर ठीक करने में मदद मिल सकती है।

पहले माउथवॉश पर हो चुका है रिसर्च

हाल ही में अंतरराष्ट्रीय वायरस विशेषज्ञों द्वारा रिसर्च किया गया था। इस रिसर्च के अनुसार, माउथवॉश करने से कोरोनावायरस के संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है। इस अध्ययन में बताया गया था कि अगर नियमित अंतराल में माउथवॉश किया गया, तो इससे कोरोनावायरस की गंभीरता को कम कर सकते हैं। माउथवॉश (Coronavirus and Mouthwash) से धीरे-धीरे कोरोनावायरस को नष्ट किया जा सकता है।

आयुष मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइन

भारत के आयुष मंत्रालय द्वारा हाल ही में एक गाइडलाइन जारी की गई थी। इस गाइडलाइन के मुताबिक, कोरोनावायरस से बचाव के लिए लोगों को गर्म पानी पीना चाहिए। इसके अलावा कहा गया था कि अगर सुबह-शाम गर्म पानी में नमक डालकर गरारे किए जाएं, तो गला साफ हो सकता है। साथ ही इंफेक्शन के खतरे को भी कम कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
YouTube
Pinterest
Instagram