कोरोनावायरस से ठीक हुए मरीजों के एंडीबॉडी से तैयार की गई दवा, अमेरीकी कंपनी का दावा

Corona Virus Medicine

Coronavirus Medicine: कोरोनावायरस के कहर से जूझ रही पूरी दुनिया के लिए बहुत ही अच्छी खबर है। अमेरिका की एली लिली कंपनी (Eli Lilly and Company)  नामक  कंपनी ने घोषणा की है कि उन्होंने कोविड-19 के संक्रमण से ठीक हो चुके मरीजों के खून का सैंपल लेक एक दवाई तैयार की है। (Coronavirus Medicine) अब इस दवा का इंसानों पर ट्रायल शुरू किया जाएगा। अमेरिकी कंपनी का दावा है कि यह दुनिया की पहली कोरोना वायरस एंटीबॉडी से तैयार दवा का डोज है।

ये भी पढ़ें – कोरोना वायरस के बाद अब इस महामारी ने दी दस्तक, हजारों लोग हुए संक्रमित

इस दवा का नाम ‘LY-CoV555’ रखा गया है। (Coronavirus Medicine) इस दवा को लिली और अब सेल्‍लेरा बायोलॉजी कंपनी ने मिलकर तैयार किया है। मार्च में लिली कंपनी ने सेल्‍लेरा के साथ एंटीबॉडी से कोरोना वायरस को खत्म करने की दवा को तैयार करने की घोषणा की थी। कंपनी ने कहा कि पहले चरण का अध्ययन मरीजों की सेफ्टी और उनके सहन क्षमता के आधार पर किया जाएगा। 

ये भी पढ़ें – क्या 11वें दिन कोरोना से संक्रमित व्यक्ति नहीं है दूसरों के लिए खतरा? जानें क्या है वैज्ञानिकों का दावा

कंपनी ने कहा कि यदि ट्रायल सफल रहा, यह जल्दी ही बाजार में उतार दिया जाएगा। इस कंपनी ने महज तीन महीने में कोरोना वायरस की एंडीबॉडी तैयार की है।  LY-CoV555 पहली ऐसी दवा है, जिसे कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए तैयार किया गया है। कंपनी ने कहा कि इस दवा से कोरोना वायरस के स्पाइक प्रोटीन की संरचना को नष्ट किया जा सकता है। 

इस दवा से स्वस्थ कोशिकाओं तक नहीं पहुंच पाएगा कोरोनावायरस (Coronavirus Medicine News)

कंपनी ने दावा किया है कि LY-CoV555 दवा से कोरोना वायरस शरीर की स्वस्थ कोशिकाओं तक पहुंच नहीं पाएगा और ना ही यह उन्हें नुकसान पहुंचा सकता है। कंपनी ने कहा कि कोरोना वायरस से ठीक हुए मरीजों के ब्लड सैंपल इस दवाई को तैयार किया गया है। कोरोना वायरस से मरीज को फेफड़ों से जुड़ी समस्या हो सकती है, इसी आधार पर एंटीबॉडी से दवा को तैयार किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
YouTube
Pinterest
Instagram