गर्भनिरोधक गोलियों को लेकर दूर होगी सारी शंकाएं, पढ़े पूरा रिपोर्ट

Contraceptive Pills

Contraceptive Pills: आजकल महिलाएं (lifestyle news) परिवार नियोजन के लिए गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करती है।लेकिन इस दवाई को खाने से पहले उनके मन में कई तरीके कि शंकाएं पैदा होती है। उनके मन में कुछ सवाल उठते हैं जैसे कि इसके साइड इफेक्ट क्या हो सकते हैं? (Contraceptive Pills) इसके इस्तेमाल का सही तरीका क्या है? और भी बहुत कुछ। ऐसे में अगर इन सवालों का जवाब ना मिले तो वह तनाव में रहती है। इसीलिए समय पर गर्भनिरोधक गोलियों की जानकारी लेना बहुत जरूरी होता है। आज हम आपको इन गोलियों के बारे में कुछ जानकारी देंगे। इन वीडियोस स्त्री की ओवरी में एक बनने की प्रक्रिया कुछ वक्त के लिए रुक जाती है यही कारण है कि स्त्री कंसीव नहीं कर पाती।

ये भी पढ़ें – प्रेग्नेंट महिलाएं ना पिएं एलोवेरा जूस, वरना हो सकता है गर्भपात

गोली को लेने का सही तरीका

अगर कोई स्त्री इस गोली का इस्तेमाल पहली बार करते हैं तो पीरियड्स के दूसरे दिन से दवाई लेना शुरू कर दें। (Contraceptive Pills) इसकी एक पैकेट में 21 गोलियां होती है इन इंग्लिश गोलियों को लेने के बाद 7 दिन का ब्रेक शरीर को देना बहुत जरूरी होता है। उसी दौरान संभावित रूप से पीरियडस फिर शुरू हो जाते हैं।

नव विवाहित महिलाओं को इन दवाइयों का सेवन करना चाहिए

यह दवाई परिवार नियोजन के लिए बेहद सुरक्षित है। और अगर इन दवाइयों का सेवन बंद कर देते हैं तो भी बाद में महिलाएं कंसीव कर सकती हैं। (Birth Contraceptive Pills) ऐसे में अगर नव विवाहित महिलाएं इसका सेवन करती हैं तो उन्हें बाद में कंसीव करने में कोई दिक्कत नहीं होगी।

इन गोलियों का साइड इफेक्ट

इन गोलियों के सेवन से कुछ स्त्रियों को सर दर्द नाजिया, जी मचलना जैसी परेशानियां होती है। इसका कारण यह है कि इन दवाइयों में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का मिक्सचर मौजूद होता है जिसकी वजह से यह समस्या हो सकती है।

ये भी पढ़ें – पीरियड्स में 1 गलती से हो सकती है ये गंभीर बीमारी, सैनेटरी पैड खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान

क्या वजन बढ़ने को भी इसकी समस्या कह सकते हैं

जैसा कि बताया गया है कि दवाइयों में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन होते हैं। पहले इन दवाइयों (Contraceptive Pills Side Effects) में यह हार्मोन ज्यादा पाए जाते थे जिसकी वजह से शरीर में पानी जमने की समस्या होने लगती थी। इस समस्या से महिलाओं को ऐसा लगता था कि उनका वजन बढ़ रहा है लेकिन अब गर्भनिरोधक गोलियों में इन दोनों हार्मोन की मात्रा सीमित हो गई है इसलिए अब यह साइड इफेक्ट नजर नहीं आते।

आईपीएल का इस्तेमाल परिवार नियोजन में

कुछ महिलाएं आईपीएल का इस्तेमाल गर्भनिरोधक गोली की तरह करती हैं। इस गोरी का इस्तेमाल आकस्मिक स्थिति में किया जाता है। (Garv Nirodhak Goli) इन गोलियों से शरीर में हार्मोन अपना संतुलन खो देते हैं। ऐसे में सलाह दी जाती है कि स्त्री आईपीएल का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह से ही करें। कई बार ऐसा देखा गया है कि महिलाएं इसलिए सेवन के बाद भी प्रेग्नेंट हो जाती हैं।

मासिक चक्र के लिए गर्भनिरोधक गोलियां

इन गोलियों में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन दोनों मौजूद होते हैं इसीलिए इसे मासिक चक्र को नियमित रखा जा सकता है। पीसीओडी होने पर पीरियड अनियमित हो जाते हैं जिसे दूर करने के लिए लड़कियां शादी से पहले गर्भनिरोधक गोलियां डॉक्टर की सलाह से लेती है।

ये भी पढ़ें – प्रेग्नेंट है या नहीं इस बात से हैं परेशान? तो घर में इन घरेलू नुस्खों से करें प्रेग्नेंसी टेस्ट

गर्भनिरोधक गोलियों के अलावा डॉक्टर द्वारा बताया गया तरीका कितना सुरक्षित है यह तो स्त्री की सेहत पर निर्भर करता है। (Contraceptive Pills in Hindi) स्त्री की शारीरिक अवस्था को देखते हुए डॉक्टरों सलाह देते हैं। जिन स्त्रियों को शादी के 1 साल बाद तक बच्चा नहीं चाहिए उनके लिए गर्भनिरोधक गोलियां एक अच्छा ऑप्शन है। वहीं कुछ स्त्री जो 2 बच्चे के बीच गैप रखना चाहती हैं उनके लिए IUCD और मल्टी लोड ऑपरेशन डॉक्टर को सही लगता है।

महिला स्‍वास्थ्‍य से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें Womens Health Tips in Hindi


देश और दुनिया से जुड़ी Health News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter और Instagram पर फॉलो करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
YouTube
Pinterest
Instagram