International Nurses Day 2020: नर्स का हमारे जीवन में है बड़ा योगदान, जानें इसका इतिहास और क्या है इस साल का थीम

Happy International Nurse Day 2020

International Nurses Day 2020: 12 मई को हर साल अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस (International Nurses Day 2020) मनाया जाता है। एक नर्स का मरीज को जिंदगी में उतना ही योगदान है, जितना एक डॉक्टर का। अपनी जान की परवाह किए वगैर एक नर्स अपने मरीज की जान बचाती है। नर्सों के योगदान को दिखते हुए यह दिन उनके लिए समर्पित किया गया है। इसके अलावा फ्लोरेंस नाइटिंगेल (Florence Nightingale) को श्रद्धांजलि देने के लिए भी यह दिन मनाया जाता है। फ्लोरेंस नाइटिंगेल नर्सिंग की संस्थापक है। इन्होंने प्रीमिया युद्ध के दौरान लालटेन की मदद से सैनिक और मरीजों की सेवा की थी, इसलिए इन्हें ‘लेडी बिथ द लैम्प” भी कहा जाता है।

नर्सों के लिए खोले ट्रेनिंग स्कूल

ब्रिटिश परिवार में 12 मई 1820 को फ्लोरेंस नाइटिंगेल (Florence Nightingale) का जन्म हुआ था। इनकी सेवा भावना को याद करने के लिए इस दिन को मनाया जाता है। आज भी कई ऐसे लोग हैं, जो इनके समर्पण को याद करते हैं। इन्होंने 1860 में सेंट टॉमस अस्पताल और नर्सों के लिए नाइटिंगेल ट्रेनिंग स्कू‍ल की स्थापना की थी।

ये भी पढ़ें – जानें कब और क्यों मनाते हैं मदर्स डे, इस तरह ख्याल रखकर अपनी मां को दें स्वस्थ सेहत का गिफ्ट

1953 में अमेरिका के स्वास्थ्य, शिक्षा और कल्याण विभाग के अधिकारी डोरोथी सुदरलैंड ने इस दिवस को मनाने का प्रस्ताव रखा था। इस दिवस को मनाने की घोषण अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डेविट डी. आइजनहावर ने की थी। जनवरी 1974 में घोषणा की गई थी कि 12 मई को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस (International Nurses Day) मनाया जाएगा। फ्लोरेंस नाइटिंगेल का जन्म 12 मई को हुआ था, इसलिए इस तारीख को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस मनाने की घोषणा की गई थी। यह आधुनिक नर्सिंग की संस्थापक हैं।

स्वास्थ विभाग में नर्सों का योगदान

डॉक्टर के इलाज के बाद नर्स ही मरीज की देखभाल करती है। मरीज को स्वस्थ बनाने में एक नर्स सबसे अहम योगदान माना जाता है। नर्सों को प्रशिक्षण दिया जाता है कि वे अपने मरीज की सेवा सामाजिक, मनोवैज्ञानिक और चिकित्सीय दृष्टिकोण के साथ करेंगी। इन दिन नर्सों के योगदान को याद किया जाता है। दुनिया को बताया जाता है कि नर्सों का हमारे जीवन में क्या और कितना योगदान है। नर्सों के कार्यों को देखते हुए आज उन्हें सम्मान की नजरों से देखा जाता है। हर साल 12 मई को कई नर्स राष्‍ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगल पुरस्‍कार से सम्मानित होती हैं। भारत सरकार के परिवार एवं कल्‍याण मंत्रालय ने इसकी शुरुआत 1973 में की थी। अबतक भारत में 250 के नर्सों को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।

ये भी पढ़ें – कैंसर की कैसे होती है शुरुआत, जानें इसके 4 प्रमुख लक्षण

क्या है अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस 2020 का थीम

अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस का थीम इस साल “Nursing the World to Health” रखा गया है। इस थीम को रखने का उद्देश्य लोगों में नर्सों के प्रति सम्मान बढ़ाना है। जनता को प्रोत्साहिस किया जाता है कि वे नर्स का सम्मान करें और उनके कार्यों की सराहना करें। लोगों में जागरुकता फैलाने की कोशिश की जा रही है कि आने वाली पीढ़ी में नर्स का हमारे जीवन में क्या योगदान है। बिना नर्स के एक मरीज को पूरी तरह से स्वस्थ नहीं किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
YouTube
Pinterest
Instagram