पीएम मोदी ने अयोध्या में लगाया हरसिंगार का वृक्ष, जानिए क्या हैं इसके ओषधीय महत्व

Night Jasmine Flower Benefits in Hindi

Night Jasmine Flower Benefits: करीब 400 साल के लंबे इंतजार के बाद 5 अगस्त को राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन की गई। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस भव्य मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखी। (Night Jasmine Flower Benefits) पीएम मोदी ने शिलान्यास कार्यक्रम के शुरुआत से पहले हनुमानगढ़ी पहुंचे। यह इन्होंने कई तरह के पौधों का रोपण किया। इस दौरान पीएम मोदी ने पारिजात का पौधा लगाया। पारिजात का पौधा (Parijat Tree) और इसके फूल का औषधीय महत्व है। पारिजात के अलावा मोदी ने कई अन्य औषधीय गुणों वाले पौधों का रोपण किया। परिजात का वृक्ष कई तरह की बीमारियों से बचा जा सकता है।

पारिजात (parijat) बहुत ही खूबसूरत और सुंगधित फूल होता है। इस फूल को कई जगह हरसिंगार का फूल भी कहते हैं। इसके अलावा इसे सेओली, प्राजक्ता, कूरी, सिहारु, शेफाली, शेफालिका, शिउली और इंग्लिश में ट्री ऑफ सैडनेस (Tree of sadness), कोरल जैसमिन (Coral jasmine), मस्क फ्लॉवर (Musk flower), नाईट जैसमिन (Night jasmine) जैसे नामों से पहचाना जाता है। वहीं, उर्दू में इस फूल को गुलजाफरी कहा जाता है।

ये भी पढ़ें – कैंसर और डिप्रेशन के खतरे को कम करे ब्रोकली, इसके सेवन से होते हैं कई और लाजवाब फायदे

हरसिंगार फूल के पत्तों में एंटी-आर्थ्रिटिक के गुण पाए जाते हैं। (Night Jasmine Flower Benefits) इसके साथ ही इसकी पत्तियों के काढ़े से लिवर को सुरक्षित रखने में हमारी मदद करता है। यह एंटी-फंगल, एंटी-वायरल, एंटीपायरेटिक, एनाल्जेसिक, हाइपोटेंसिव, एंटी-इंफ्लैमेटरी, एंटीस्पास्मोडिक जैसे गुणों से भरपूर होता है। इस फूल की पत्तियों में एंटी-लीशमैनियल के गुण होते हैं, जो शरीर में परजीवियों को खत्म करने में हमारी मदद करते हैं। इसके सेवन से आप पेट के कीड़ों से छुटकारा पा सकते हैं।

कैसे पारिजात (हरसिंगार) कैसे करता है काम?

हरसिंगार (parijat) के फूलों से खूशबूदार तेल प्राप्त किया जाता है। इसमें निक्टैन्थीन नामक द्रव्य ग्लूकोसाइड की मात्रा होती है। (Night Jasmine Flower Benefits) इसके साथ ही इस फूल की पत्तियों में एंटी बैक्टीरियल और एंटी एलर्जिक गुण पाए जाते हैं। वहीं, इस फूल के बीजों से पीले भूरे रंग का तेल प्राप्त होता है, जिसमें पोलीसेकेराइड ग्लूकोमैनन और इरिडॉइड ग्लाइकोसाइड की मात्रा होती है।

पारिजात की पत्तियों में पाए जाने वाले औषधीय गुण हैंः

  • टैनिन एसिड (Tannin)
  • डी-मैनिटोल (D-Mannitol) – 1.3 प्रतिशत
  • लिनोलिक एसिड (Linoleic acid)
  • मेथिलसेलिसिलेट
  • बीटा-सिटोस्टेरोल (beta-sitosterol)
  • बीटा-एमिरिन – 1.2 प्रतिशत
  • हेंट्रिएकॉन्टेन
  • बेंजोइक एसिड
  • एस्ट्रैगलिन
  • निकोटिफ्लोरिन
  • ओलीनोलिक एसिड
  • नेक्टेन्थिक एसिड फ्राइडेलिन (nyctanthic acid)
  • विटामिन ए
  • विटामिन सी

पारिजात के छाल में पाए जाने वाला औषधीय गुण हैंः

  • ग्लाइकोसाइड (glycoside) – 1 प्रतिशत

हरसिंगर से होने वाले फायदे (Harsingar Benefits)

इम्यूनिटी करे बूस्ट

हर्बल टी बनाने के लिए आप हरसिंगार के पत्तों का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह हर्बल टी आपके शरीर की इम्यूनिटी क्षमता को बढ़ाने का काफी अच्छा स्त्रोत है। इसके पत्तों से हर्बल टी बनाने के साथ आप इसके पत्तों का जूस भी पी सकते हैं।

ये भी पढ़ें – चिकनगुनिया का बढ़ सकता है प्रकोप, समय से पहले पहचानें इसके लक्षण

डेंगू के दौरान हड्डियों के दर्द को करे कम

मानसून के शुरू होते ही डेंगू अपना डेरा डाल देते हैं। डेंगू के कारण शरीर की हड्डियों में काफी दर्द होता है। साथ ही शरीर को काफी कमजोरी भी महसूस होती है। डेंगू के दौरान होने वाले इस दर्द को कम करने के लिए हरसिंगार की पत्तियों का काढ़ा बनाकर पिया जा सकता है। इससे आपको दर्द में काफी राहत मिलेगी।

पेट के कीड़ों को करे खत्म

अगर आपको या फिर आपको बच्चों को पेट में कीड़े की समस्या होती है, तो यह आपके लिए काफी असरदार हो सकता है। डॉक्टर की सलाह के अनुसार हरसिंगारके पत्तों के रस में थोड़ा सा शहद मिलाकर आप इसका सेवन कर सकते हैं।

इन समस्याओं में भी कर सकते हैं हर सिंगार का इस्तेमाल

  • खांसी के उपचार के लिए
  • जोड़ों में दर्द के उपचार के लिए
  • चेहरे से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए
  • बुखार कम करने के लिए
  • बालों के बेहतर विकास के लिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
YouTube
Pinterest
Instagram