सलाद में अधिक टमाटर खाने वाले हो जाएं सावधान! वरना हो सकता है ये नुकसान

Tomato Side Effects

Tomato Side Effects: टमाटर का इस्तेमाल (Uses of Tomato) हम अधिकतर घरों में होते है। हर सब्जी का स्वाद बढ़ाने में इसका महत्वपूर्ण योगदान होता है। लगभग सभी चीजों में हम टमाटर का इस्तेमाल करते हैं। (Tomato Side Effects) ये ना सिर्फ खाने का स्वाद बढ़ाता है, बल्कि सेहत की दृष्टि से भी बहुत ही फायदेमंद है। स्किन से लेकर कई गंभीर बीमारियों के इलाज में टमाटर खाने की सलाह दी जाती है। टमाटर में लाइकोपीन, कोलीन, अल्फा-लिपोइक एसिड, बीटा-कैरोटीन और ल्यूटिन जैसे आवश्यक एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं, जो शरीर से कई बीमारियों को दूर रखने में हमारी मदद करता है।

कई पेषक तत्वों से भरपूर टमाटर (Tomato Side Effects) स्किन के लिए काफी अच्छा माना जाता है। इतना ही नहीं, इससे सेवन से वजन कम, दिल की बीमारी से निजात, पाचन शक्ति को बढ़ावा और डायबिटीज कंट्रोल होती है। हालांकि, बड़े-बुजुर्ग कहते हैं किसी भी चीज की अति इंसान के लिए घातक हो सकता है। ठीक ऐसा ही टमाटर के साथ भी है। अगर टमाटर का सेवन अधिक करते हैं, तो इससे कई गंभीर समस्याएं भी हो सकती हैं। आइए जानते हैं अधिक टमाटर खाने के नुकसान-

टमाटर के अधिक सेवन से सेहत पर पड़ता है ये असर (Excess intake of tomatoes affects health)

गुर्दे की समस्या (Kidney Problem)

अमेरिका के स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग के मुताबिक, क्रोनिक किडनी रोग से पीड़ित मरीजों को पोटेशियम का सेवन सीमित रूप से करना चाहिए। टमाटर में पोटेशियम की मात्रा अधिक होती है। इसके साथ ही इसमें ऑक्सालेट नाम के एंटी-ऑक्सीडेंट का काफी ज्यादा पाए जाते हैं, जो किडनी के रोगियों के लिए अच्छा नहीं माना जात है। इसलिए किडनी की समस्या से पीड़ित मरीजों को टमाटर का सेवन नहीं करना चाहिए।

ये भी पढ़ें – क्या आपके शरीर में है आयरन की कमी? तो डायट में शामिल करें ये नट्स

जोड़ों का दर्द (Joint Pain)

टमाटर का ज्यादा खाने से जोड़ों में दर्द और सूजन की समस्या होने लगती है। क्योंकि इसमें क्षारीय पदार्थ काफी ज्यादा होती है, जिसे सोलनिन कहा जाता है। सोलनिन ऊतकों में कैल्शियम का निर्माण करने का जिम्मेदार होता है, जो जोड़ों में सूजन का कारण बनता है।

एसिड की समस्या (Acid Problem)

टमाटर के अधिक सेवन से गैस्ट्रिक एसिड बनता है, जिससे सीने में जलन या एसिड रिफलक्स का एहसास होने लगता है। यदि आप पाचन की समस्या से परेशान हैं, जो टमाटर का सेवन बंद कर दें। इसके साथ ही अगर आप गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स से पीड़ित हैं, तो टमाटर का सेवन कम कर दें। इससे आपको काफी राहत मिलेगी।

ये भी पढ़ें – गर्मियों में वजन कम करना है आसान, डाइट में शामिल करें ये सीजनल फूड्स

लाइकोपेनोडर्मिया (Lycopenodermia )

लाइकोपेनोडर्मिया स्किन से जुड़ी समस्या है। लाइकोपेनोडर्मिया व्यक्ति को तब होता है, जब उसके शरीर में लाइकोपीन की मात्रा अधिक हो जाती है। इससे स्किन मैला नजर आने लगता है। लाइकोपीन शरीर के लिए अच्छा माना जाता है, लेकिन प्रति दिन 75 मिलीग्राम से ज्यादा लाइकोपीन का सेवन करना खतरनाक हो सकता है।

एलर्जी (Allergy)

टमाटर के अधिक सेवन से स्किन में एलर्जी, चकत्ते होने लगते हैं। टमाटर में हिस्टामाइन नामक यौगिक पाए जाते हैं, जिसकी अधिकता के कारण स्किन पर एलर्जी होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
YouTube
Pinterest
Instagram