रिजल्ट खराब होने पर बच्चों का ना बढ़ाएं मानसिक तनाव, इस तरह दें उन्हें इमोशनल सपोर्ट

UP Board Results 2020

उत्‍तर प्रदेश माध्‍यम‍िक श‍िक्षा बोर्ड ने (UP Board Result 2020) आज अपने आध‍िकार‍िक वेबसाइट पर 10वीं और 12वीं का रिजल्ट घोषित कर दिया है। रिजल्ट को लेकर कई बच्चों के मन में डर बैठा होता है। उन्हें अक्सर इस बात की चिंता सताती रहती है कि आखिर रिजल्ट कैसा आएगा, कम नंबर आए तो माता-पिता क्या कहें। इस तरह के भाव उनके मन में चलता रहता है। कुछ बच्चों का उनके समीकरण के हिसाब से रिजल्ट (UP Board Result 2020) नहीं आ पाता। ऐसे में छात्र तनाव और कई बार डिप्रेशन के शिकार होने लगते हैं। इस स्थिति में पेरेंट्स की जिम्मेदारी होती है कि वे उनके अंदर तनाव और डिप्रेशन को पहचानें और उसे खत्म करने की कोशिश करें। इस तरह आप रिजल्ट के बाद बच्चों के मानसिक तनाव (Mental Stress) को कर सकते हैं कम।

ये भी पढ़ें – सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट हुआ घोषित, बच्चों का स्ट्रेस कम करने के लिए माता-पिता करें इस तरह उनकी मदद

प्रतिभा का पैमाना नहीं होता है रिजल्ट

हर माता-पिता को अपने बच्चे के कामयाबी की उम्मीद रहती है, लेकिन वह नाकामयाब या फिर औसत प्रदर्शन कर पाते हैं। इस स्थिति के लिए आप तैयार हो जाएं। बहुत से माता-प‍िता बच्चों के कम नंबर आने पर उनके साथ दुर्व्यहार करते हैं और उन्हें डांटते हैं। ऐसे में बच्चा और अधिक तनाव में आ सकता है। अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा तनाव में ना आए, तो पहले से ही इस बात की तैयारी कर लें कि अगर र‍िजल्‍ट (UP Board Result 2020) अच्छा नहीं आता है, तो आगे उनके लिए आप क्या रास्ता चुनेंगे या फिर उनके सामने आगे कौन से रास्ते खुल सकते हैं। रिजल्ट को कभी भी अपने बच्चे की प्रतिभा और काबिलियत का आधार ना बनाएं।

लॉकडाउन में रखना होगा विशेष ख्याल

इस बार की स्थिति पहले जैसी बिल्कुल भी नहीं है। आज की स्थिति में सामान्य लोग भी डिप्रेशन के शिकार हो रहे हैं। अगर सामान्य स्थिति होती, तो बच्चे अपने तनाव को कम करने के लिए अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के पास चले जाते। लॉकडाउन और कोरोनावायरस की इस स्थिति में रिजल्ट खराब होने पर आप बच्चों को मानसिक रूप से संभालने की कोशिश करें। उनके तनाव और स्ट्रेस को कम करने के लिए उनके पास रहें और उनके साथ दोस्त जैसा बर्ताव करें। उन्हें यकीन दिलाने की कोशिश करें कि सिर्फ रिजल्ट से (UP Board Result 2020) आप उनकी काबिलियत को नहीं आंकते हैं।

ये भी पढ़ें – फिजिकल एक्टिविटी ना होने से बच्चों को हो सकती है गंभीर समस्याएं, लॉकडाउन में कराएं ये एक्सरसाइज

जीवन का हिस्सा है असफलता

आपके या फिर आपके बच्चे के हिसाब से रिजल्ट ना मिलने पर खुद और अपने बच्चों को समझाएं कि असफलता और सफलता जीवन का एक अहम हिस्सा हो सकता है। (10 UP Board Result 2020) रिजल्ट खराब होने पर कई बार माता-पिता खुद ही निराश हो जाते हैं, लेकिन आप इस बात को समझने की कोशिश करें कि आपके कहीं अधिक आपके बच्चे का मन कोमल है और ऐसे में वह कुछ गलत कदम उठा सकता है। उनके सामने कमजोर बनने की जगह आप अपनी जिम्मेदारी को निभाते हुए उन्हें समझाने की कोशिश करें।

बच्चे को दें इमोशनल सपोर्ट

बोर्ड का रिजल्ट खराब होने पर बच्चों को डांटे नहीं, बल्कि उन्हें इमोशनल सपोर्ट देने की कोशिश करें। डांटकर आप बच्चे का परिणाम बदल नहीं सकते हैं। (12 UP Board Result 2020) ऐसे में बच्चे के प्रदर्शन के अनुसार, उन्हें कुछ सकारात्मक बातें समझाएं और इमोशनल तौर पर उन्हें सपोर्ट दें। इस तरह से आपका बच्चा किसी गलत दिशा में नहीं जाएगा।

ये भी पढ़ें – 1000 में से 10 बच्चे जन्मजात होते हैं इस बीमारी के शिकार, भारत में इतने फीसदी की हो जाती है मौत

दूसरे छात्रों का ना दें उदाहरण

अधिकतर माता-पिता अपने बच्चों को दूसरे छात्रों का उदाहरण देते हैं। ऐसे में आपका बच्चा डिप्रेश हो सकता है। इस स्थिति में कई बार आपके बच्चे या तो उग्र हो जाते हैं या फिर बेहद निराश हो जाते हैं।

यहां कर सकते हैं आप अपना रिजल्ट चेक (UP Board Result 2020)

उत्‍तर प्रदेश माध्‍यम‍िक श‍िक्षा बोर्ड 10वीं और 12वीं का रिजल्ट आप ऑफिसियल वेबसाइट upmsp.edu.in, upresults.nic.in के अलावा upmspresults.up.nic.in पर भी चेक कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
YouTube
Pinterest
Instagram