घर के अंदर भी तेजी से फैल सकता है कोरोनावायरस, रिसर्च में हुआ खुलासा

0
221
Coronavirus Latest News
Coronavirus Latest News

Coronavirus Latest News: कोरोनावायरस ने पूरी दुनिया की हालत खराब कर दी है। दुनिया के लिए यह एक बहुत ही बड़ी परेशानी बनकर आई है। इसे लेकर कई देश में रिसर्च कर रहे हैं और कई देश इसकी दवा बनाने की तैयारी में लगे हैं। (Coronavirus Latest News) इसकी कोई दवा और वैक्सीन ना होने के कारण वैज्ञानिक और डॉक्टर्स सलाह दे रहे हैं कि इससे बचाव ही फिलहाल इसका इलाज है। वैज्ञानिकों का कहना है कि बार-बार इस्तेमाल की जाने वाली चीजों को साफ रखें और अपने हाथों को बार-बार धोते रहें है। इसके साथ ही लोगों से भी दूरी बनाने की सलाह दी जा रही है।

ये भी पढ़ें – कोरोनावायरस और सामान्य फ्लू में है काफी अंतर, दोनों के लक्षणों में ऐसे करें फर्क

कई महीनों से फैले इस वायरस के बारे में लोगों को समझ आ चुका है कि कि कैसे इस बीमारी से बचा जा सकता है। यह वायरस लंबे समय तक एरोसोल कणों पर श्वसन की बूंदों और यहां तक की लिंग के जरिए लोगों में फैलता है।

इससे बचने के लिए सार्वजनिक स्थान पर जाते समय विशेष बातों का ध्यान रखना होता है। बाहर में कोरोना के संक्रमण से कैसे बचें, इसका तरीका अधिकतर लोग जानते हैं, (Coronavirus Latest News) लेकिन आपको बता दें कि घर की चीजों से भी कोरोनावायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। हाल ही में एक नए अध्ययन से पता चला है कि घर के अंदर कोरोनावायरस दो बार संक्रामक है, जैसे कि सार्स जैसी समान बीमारियों की तुलना में, एक कोरोनोवायरस (Coronavirus) रोगी के बहुत पहले रोगाणु फैलने से बहुत ज्यादा लक्षण दिखाई देते हैं।

शोधकर्ताओं के अनुसार, यह नई खोज आने वाले समय में नए संक्रमण की संख्या को कम करने में हमारी मदद कर सकता है। इस अध्ययन में चीन के शोधकर्ताओं ने चीन के गुआंगझोउ शहर में कोरोनावायरस से पीड़ित 350 रोगियों और उनके करीब 2 हजार संपर्कों के डेटा का इस्तेमाल किया। संपूर्ण आंकड़ों की समीक्षा के बाद कोरानावायरस के हमले की दर का अनुमान लगाने में सक्षम थे। इस अध्ययन में शोधकर्ताओं को पता चला कि एक औसत मरीज के पास बीमारियों का संक्रमण होने का केवल 2.4 फीसदी मौका है, जिसके साथ वे नहीं रहते हैं।

ये भी पढ़ें – क्या माउथवॉश से नष्ट किया जा सकता है कोरोनावायरस? जानें क्या कहती है रिसर्च

शोधकर्ताओं के मुताबिक, 60 साल से अधिक उम्र के लोग इस संक्रमण से अधिक प्रभावित हो सकते हैं और 20 साल से कम उम्र के लोगों में ये समस्या कम मापी गई है। इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि एक कोरोनावायरस 9 (COVID-19) मरीज के परिवार के सदस्य या फ्लैटमेट को संक्रमित करने की संभावना काफी ज्यादा आंकी गई है। ये करीब 39 फीसदी है। इससे पहले कि वे बाद में लक्षणों को दिखाना शुरू कर देते थे।

घर पर कोरोना से कैसे करें बचाव

  • अपने हाथों को साबुन से बार-बार धोएं।
  • हाथ मिलाना और लोगों को गले लगाना बंद करें।
  • खांसने और छींकने पर अपना मुंह और नाक जरूर ढकें।
  • बार-बार अपने चेहरे को छूने से बचें।
  • अपनी इस्तेमाल चीजें किसी को ना दें और ना किसी की चीजों का इस्तेमाल करें।
  • सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here