मां का दूध ना पिलाने से शिशु को हो सकता है कब्ज, अपनाएं ये 5 घरेलू उपाय

0
225
home remedies for baby Constipation
home remedies for baby Constipation

Baby Constipation Remedies: ब्रेस्ट मिल्क, नवजात शिशु आसानी से पचा लेते हैं। मां के दूध को रेचक (पेट साफ करने वाला) भी कहा जाता है। इसी गुणों के कारण मां का दूध पीने वाले शिशुओं को कब्‍ज (Baby Constipation Remedies) की शिकायत नहीं होती है।  लेकिन ऐसे बच्चे जो फॉर्मूला मिल्‍क पीते हैं, उन्हें दस्‍त और कब्‍ज जैसी समस्या होना आम बात है।

ये भी पढ़ें – 1000 में से 10 बच्चे जन्मजात होते हैं इस बीमारी के शिकार, भारत में इतने फीसदी की हो जाती है मौत

फॉर्मूला मिल्क पीने वाले शिशुओं को दस्त और कब्ज की समस्या हमेशा बनी रहती है। ऐसे में उन्हें बार-बार दवा देना नुकसानदायक हो सकता है, इसलिए घरेलू नुस्खों (Baby Constipation Remedies) से इसका इलाज करना बेहतर माना जाता है।

सेब का रस (Apple Juice)

फाइबर की कमी के कारण शिशुओं को कब्ज की समस्या हो सकती है। सेब एक ऐसा फल है, जिसमें फाइबर घुलनशील फाइबर या‍नी पेक्टिन मौजूद होता है। ये कब्‍ज के इलाज में लाभकारी है। आप अपने शिशु को सेब के छिलके के साथ जूस निकाल कर उसे पिला सकती हैं। एक दूध के बोतल में दिन में एक बार सेब का जूस पिलाएं। इससे कुछ ही दिनों में कब्ज की समस्या ठीक हो जाएगी। 

ये भी पढ़ें – फिजिकल एक्टिविटी ना होने से बच्चों को हो सकती है गंभीर समस्याएं, लॉकडाउन में कराएं ये एक्सरसाइज

तरल पदार्थ (Liquids)

पानी की कमी के कारण भी शिशुओं को कब्ज की समस्या होती है। 6 माह से अधिक उम्र के शिशुओं को आप आहार में तरल पदार्थ दे सकती हैं। शरीर में पानी की कमी को पूरा करने के लिए आप हरी सब्जियों के सूप, फलों का जूस, दूध और पानी से इसकी पूर्ति कर सकती हैं।

ऑर्गेनिक नारियल तेल (Organic Coconut Oil)

स्किन और बालों के लिए नारियल तेल काफी गुणकारी होता है। शिशुओं को मसाज करने के लिए भी कई लोग नारियल तेल का इस्तेमाल करते हैं। इन सभी के साथ ही नारियल तेस से शिशु के कब्‍ज की समस्या को ठीक किया जा सकता है। इसके लिए अगर आपका शिशु 6 महीने से अधिक उम्र का है, जो उसके आहार में दो से तीन मिली नारियल तेल मिलाएं। यदि आपका बच्‍चा 6 महीने से कम उम्र का है, जो उसकी गुदा के आसपास नारियल तेल से मालिश करें। 

ये भी पढ़ें – पहली बार बने हैं पिता तो पत्नी का दें साथ, अपनाएं ये 5 पेरेंटिंग टिप्स

सौंफ (Anise)

पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने के लिए सौंफ भी असरकारी इलाज है। शिशुओं को सौफ देने के लिए आप एक कप पानी में दो चम्मच सौंफ डालें। इस पानी को अच्छी तरह से उबाल लें। इसके बाद इसे छानकर ठंडा होने के लिए छोड़ दें।  दिन में तीन से चार बार अपने शिशु को चम्‍मच से इस पानी को पिलाएं। अगर शिशुु 6 महीने से छोटा है, तो मां को कहें कि दिन में दो बार सौंफ खाए।

टमाटर (Tomatoes)

टमाटर के सेवन से भी कब्ज की समस्या को ठीक किया जा सकता है। अगर आपका बच्चा 6 महीने से अधिक उम्र का है, तो आप उसे टमाटर का जूस पिलाएं। इसके लिए आप एक छोटे साइज का टमाटर लें। इसे एक कप पानी में उबालें। इसके बाद टमाटर को पानी में अच्छी तरह से मैश करें और इसे छान लें। अब चम्मच से दिन में 2 से 3 बार इसे अपने शिशु को पिलाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here